Mathura Temples

Adi Varah Bhagwan Temple Mathura

श्री वराह जी अवतार

पृथ्वी के उद्धार के लिए हुआ श्री वराह जी अवतार। अनँत भगवान ने प्रलय के जल मे डूबी हुई पृथ्वी का उद्धार करने के लिए वराह-शरीर धारण किया। कहा जाता है कि एक दिन स्वायम्भुव महर्षि मनुजी […]

Read More

 0

Kokilavan Shani Dev Mandir

कोकिला वन का शनिदेव मंदिर सिद्ध क्यों कहलाता है?

द्वापरयुग में बंसी बजाते हुये एक पैर पर खडे़ हुये भगवान श्रीकृष्ण ने शनिदेव की पूजा-अर्चना से प्रसन्न होकर उन्हें दर्शन दिये और कहा कि नंदगांव से सटा “कोकिला वन” उनका वन […]

Read More

 0

Shri Rangeshwar Mahadev Temple

क्यों कहलाये शिव जी रंगेश्वर महादेव

मथुरा के दक्षिण में श्री रंगेश्वर महादेव जी क्षेत्रपाल के रूप में अवस्थित हैं। कंस ने श्री कृष्ण और बलदेव को मारने का षड़यन्त्र कर इस तीर्थ स्थान पर एक रंगशाला का निर्माण करवाया। अक्रूर […]

Read More

 0

Shri Radhavallabh Lal Mandir Vrindavan

श्री राधावल्लभ लाल मंदिर वृंदावन

श्री राधावल्लभ लाल जी का मंदिर वृंदावन के अति प्राचीन मंदिरों में से एक है।

स्थापना – हरिवंश महाप्रभु 31 वर्षो तक देववन में रहे । अपनी आयु के 32 वें वर्ष में उन्होंने दैवीय प्रेरणा से […]

Read More

 0

Shri Mohini Bihari Ji Tatiya Sthan Vrindavan

श्रीमोहिनी बिहारी जी तटिया या टटिया स्थान

स्थान – श्री रंग जी मंदिर के दाहिने हाथ यमुना जी के जाने वाली पक्की सड़क के आखिर में ही यह रमणीय टटिया स्थान है। विशाल भूखंड पर फैला हुआ है, किन्तु कोई दीवार, […]

Read More

 0

Sri Madan Mohan Temple Vrindavan

चटोरे मदनमोहन

सनातन गोस्वामी जी मथुरा में एक चौबे जी के घर मधुकरी के लिए जाया करते थे। उन चौबे की स्त्री परमभक्त और मदन मोहन जी की उपासिका थी, उनके घर बाल भाव से मदन मोहन भगवान विराजते थे। असल […]

Read More

 1

Prem Mandir Vrindavan

प्रेम मंदिर वृंदावन

प्रेम मंदिर वृंदावन, जिला मथुरा, उत्तर प्रदेश में स्थित है। प्रेम मंदिर का निर्माण जगद्गुरु श्री कृपालु महाराज द्वारा भगवान कृष्ण और राधा रानी के मन्दिर के रूप में करवाया गया है। प्रेम मंदिर की सुन्दरता देखते ही […]

Read More

 7

Kusum Sarovar Govardhan

कुसुम वन सरोवर

कुसुम सरोवर एक एतिहासिक स्थान है जो गोवर्धन, जिला मथुरा, उत्तर प्रदेश में स्थित है। कुसुम वन सरोवर पवित्र गोवर्धन परिक्रमा मार्ग में स्थित है। यह गोवर्धन से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर है।

यहां के प्राचीन सरोवर […]

Read More

 0

Shri Radha Damodar Temple Vrindavan

श्रीराधादामोदर मन्दिर वृन्दावन

श्रीराधादामोदर मन्दिर की स्थापना रूप गोस्वामी के शिष्य जीव गोस्वामी ने संवत 1599 माघ शुक्ला दशमी तिथि को की थी। मंदिर में छह गोस्वामियों, रूप गोस्वामी, सनातन गोस्वामी, भक्त रघुनाथ, जीव गोस्वामी, गोपाल भट्ट और रघुनाथ दास ने […]

Read More

 0

Nidhivana Vrindavan

निधिवन वृन्दावन

कहा जाता है की निधिवन की सारी लताये गोपियाँ है। जो एक दूसरे कि बाहों में बाहें डाले खड़ी है जब आधी रात में निधिवन में राधा रानी जी, बिहारी जी के साथ रास लीला करती है। तो वहाँ […]

Read More

 0