आज बृज में होली रे रसिया।

होरी रे रसिया वर जोरी रे रसिया।।

घर घर से बृज बनिता आई।
कोई सामल कोई गोरी रे रसिया।।