मित्रों ब्रज की विश्व व्यख्यात् लठामार होली का ढाडा 1 फरवरी ( बसंत पंचमी ) 2017 को गढ गया है। 1 फरवरी यानि बसंत पंचमी से पुर ब्रज में होली महोत्सव शुरू हो चुका है। ब्रज के समस्त मन्दिरों में और ब्रज के गाँवों में व समस्त ब्रज में होली का रंग बरसना शुरू हो चुका है। पुरे विश्व में होली की शुरूआत ब्रज के बाबा बृषभानु के निज गाँव बरसाना से शुरू होती है जो अनन्तों ब्रह्माण्डों के स्वामी भगवान श्रीकृष्ण की स्वामनी हमारी लाडली श्रीराधा जी की जन्म स्थली – क्रीडा स्थली – लीला स्थली है। मित्रों वैसे तो बसंत पंचमी से लगातार होली महोत्सव धूरेडी तक चलता है। लेकिन विशेष विशाल होली महोत्सव फाल्गुन शुक्लपक्ष अष्टमी से यानि लड्डू फेक होली से शुरू होता है।

5 मार्च – नन्दगाँव फाग आमंत्रण महोत्सव, एवं बरसाना में लड्डू होली

6 मार्च – बरसाना की लठामार होली
7 मार्च – नंदगांव की लठामार होली
12 मार्च – होलिका दहन
13 मार्च – धूल होली
14 मार्च – हुरंगा दाऊजी, हुरंगा नन्दगांव, हुरंगा जाव
15 मार्च – हुरंगा गिडोह, हुरंगा बठैन