मेरा घर श्री मथुरा जी के परिक्रमा मार्ग में ही पडता है। मैं बचपन में कंस किले से परिक्रमा प्रारंभ और समाप्त किया करता था। आज फिर कंस किले से श्री मथुरा जी की परिक्रमा का वर्णन करने जा रहा हूँ।  श्री मथुरा जी की परिक्रमा  10  किमी (6.2 mi) है। श्री मथुरा जी की परिक्रमा को पूरा करने में 3 घंटे का समय लगता है। मथुरा जी की ये परिक्रमा मुख्यतः एकादशी के दिन लगाई जाती है। श्री मथुरा जी की परिक्रमा में  आने वाले स्थानों के नाम है।

Shri Dwarkadhish Ji Temple Mathura

कंस किला, स्वामी घाट, विश्राम घाट, श्री पुपलेश्वर महादेव, श्री दाउ जी घाट, श्री वटुकभेरब जी, बंगाली घाट, (धुर्व) घाट, ऋषि घाट, श्री रंगेश्वर महादेव मंदिर, पुराना बस स्टैंड, पुरातत्व (संघ्रालाये), के. आर. डिग्री कॉलेज से होते हुये। कंकाली टीले पर श्री कंकाली देवी मंदिर, श्री जन्गनाथ बलभद्र कुण्ड, श्री कृष्ण बलराम मंदिर, श्री भुतेश्वर महादेव मंदिर, श्री गन्धेश्वर कुण्ड, पोतरा कुण्ड, श्री कृष्ण जन्मभूमि, श्री महाविधा देवी मंदिर, श्री सरस्वती देवी मंदिर एवं कुण्ड, रामलीला मैदान, श्री चामुंडा देवी मंदिर, श्री गायत्री तपोभूमि, श्री गोकरण महादेव मंदिर, श्री नीलकंठ महादेव मंदिर, वामनदेव घाट, चक्रतीर्थ एवं चक्रेश्वर महादेव मंदिर, अमवरिश घाट, कृष्ण गंगा घाट, श्री राधा मदन गोपाल जी मंदिर, कंस घाट, चिन्ताहरण महादेव मंदिर, श्री कन्सेश्वर महदेव मंदिर, वहा से कंस किले पर आ कर परिक्रमा समाप्त करता हूँ।

shri-yamuna-maharani-ji-arti-shrimathuraji

यह परिकर्मा किसी भी स्थान से किसी समय प्रारंभ सकते है। लेकिन जिस स्थान से परिक्रमा प्रारंभ होती है। पुनः उसी स्थान पर परिक्रमा समाप्त करनी चाहिऐ।