Mahaganapati

महागणपति
भगवान श्री गणेश जी के सभी आठ प्रमुख मंदिरों में से एक महागणपति जी का मंदिर भी है। यह मंदिर पुणे के रांजणगांव में स्थित है। श्री महागणपति जी का मंदिर पुणे अहमदनगर राजमार्ग पर […]

Read More

 0

Maa Kalka Ji Temple Delhi

जय मां कालका

नौ देवियों में से एक मां कालका देवी का मंदिर हरियाणा के कालका शहर में हैं। हालांकि इस मंदिर को 51 शक्तिपीठों में नहीं गिना जाता है। पर मान्यता है कि शिव तांडव […]

Read More

 0

Maa Mansa Devi

मां मनसा देवी

मन की इच्छा पूरी करती हैं मां मनसा देवी

मनसा देवी को भगवान शिव की मानस पुत्री के रूप में पूजा जाता है। इनका प्रादुर्भाव मस्तक से हुआ है इस कारण इनका नाम […]

Read More

 2

Mata Chamunda Devi

माता चामुंडा देवी
चामुंडा देवी मंदिर हिमाचल प्रदेश को देव भूमि भी कहा जाता है। इसे देवताओं के घर के रूप में भी जाना जाता है। पूरे हिमाचल प्रदेश में 2000 से भी ज्यादा मंदिर है […]

Read More

 0

Maa Shakumbhari Devi

श्री शाकम्भरी माता
शाकम्भरी देवी दुर्गा के अवतारों में एक हैं। दुर्गा के सभी अवतारों में से रक्तदंतिका,भीमा, भ्रामरी, शताक्षी तथा शाकंभरी प्रसिद्ध हैं। देश भर में मां शाकंभरी के तीन शक्तिपीठ हैं पहला प्रमुख राजस्थान […]

Read More

 2

Jwalamukhi Mata

ज्वालामुखी माता
ज्वालामुखी शक्तिपीठ हिन्दू धर्म में प्रसिद्ध 51 शक्तिपीठों में से एक है। हिन्दू धर्म के पुराणों के अनुसार जहाँ-जहाँ माता सती के अंग के टुकड़े, धारण किये हुए वस्त्र और आभूषण गिरे, वहाँ-वहाँ पर […]

Read More

 0

Maa Vaishno Devi Ki Yatra

वैष्णो देवी की यात्रा

चलो बुलावा आया है
कहते हैं पहाड़ों वाली माता वैष्णो देवी सबकी मुरादें पूरी करती हैं। उसके दरबार में जो कोई सच्चे दिल से जाता है, उसकी हर मुराद पूरी होती है। […]

Read More

 0

Vigneshwara Vinayaka Temple Ozar

विघ्नेश्वर/विघ्नहर विनायक – ओझर
विघ्नेश्वर गणपति मंदिर-अष्टविनायक में सातवें गणेश हैं विघ्नेश्वर गणपति। विघ्नेश्वर गणेश मंदिर पुणे-नासिक हाइवे पर ओझर जिले में जूनर क्षेत्र में स्थित है। यह पुणे-नासिक रोड पर नारायणगावं से जूनर या ओझर […]

Read More

 0

Girijatmaj Vinayak Temple

श्री गिरजात्मज विनायक
गिरजात्मज का अर्थ है गिरिजा यानी माता पार्वती के पुत्र गणेश। यह माना जाता हैं की यहाँ जिस जगह गणेशजी बिराजमान हैं वहा पार्वतीजीने तपस्या की थी इसीलिये इस गणेश का नाम गिरजा […]

Read More

 0

Chintamani Vinayak Temple Pune

चिंतामणी विनायक पुणे
अष्टविनायक में पांचवें गणेश हैं चिंतामणि गणपति। चिंतामणी का मंदिर महाराष्ट्र राज्य में पुणे ज़िले के हवेली तालुका में थेऊर नामक गाँव में है। भगवानगणेश का यह मंदिर महाराष्ट्र में उनके आठ पीठों […]

Read More

 0

Varadvinayak Kolhapur

वरदविनायक – कोल्हापुर
श्री वरदविनायक- अष्ट विनायक में चौथे गणेश हैं श्री वरदविनायक। वरदविनायक देवताओं में प्रथम पूजनीय भगवान श्री गणेश का ही एक रूप है। वरदविनायक जी का मंदिर गणेश जी के आठ पीठों में […]

Read More

 0

Ballaleshwar Ganpati Raigarh

बल्लालेश्वर विनायक- रायगढ़
बल्लालेश्वर रायगढ़ ज़िला, महाराष्ट्र के पाली गाँव में स्थित भगवान गणेश के ‘अष्टविनायक’ शक्ति पीठों में से एक है। ये एकमात्र ऐसे गणपति हैं, जो धोती-कुर्ता जैसे वस्त्र धारण किये हुए हैं, क्योंकि […]

Read More

 0

Siddhivinayak Mandir Mumbai

सिद्धिविनायक मंदिर मुंबई
सिद्घिविनायक गणेश जी का सबसे लोकप्रिय रूप है। गणेश जी जिन प्रतिमाओं की सूड़ दाईं तरह मुड़ी होती है, वे सिद्घपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्घिविनायक मंदिर कहलाते हैं। कहते […]

Read More

 0

Mayureshwar Vinayak

मयूरेश्वर विनायक
मयूरेश्वर या ‘मोरेश्वर’ भगवान गणेश के ‘अष्टविनायक’ मंदिरों में से एक है। यह मंदिर महाराष्ट्र राज्य के मोरगाँव में करहा नदी के किनारे अवस्थित है जो पुणे जिले के अंतर्गत आता है।। मोरगाँव का […]

Read More

 0

Maa Lalita Devi Shakti Peeth Allahabad

माँ ललिता देवी शक्तिपीठ इलाहावाद(प्रयाग)

बहुत कम लोग जानते हैं कि इलाहावाद स्थित ललिता देवी शक्ति पीठ ईक्यावन शक्ति पीठों में विशेष रूप से महत्वपूर्ण तथा पूजनीय है। जिन ईक्यावन शक्ति पीठों का नाम शास्त्रों मे […]

Read More

 0

Kamakhya Shakti Peeth

कामाख्या शक्तिपीठ
कामाख्या शक्तिपीठ 51 शक्तिपीठों में से एक है। हिन्दू धर्म के पुराणों के अनुसार जहां-जहां सती के अंग के टुकड़े, धारण किए वस्त्र या आभूषण गिरे, वहां-वहां शक्तिपीठ अस्तित्व में आये। ये अत्यंत पावन […]

Read More

 0

Maa Gayatri Tapobhumi Mathura

माँ गायत्री तपोभूमि
भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि, महर्षि दुर्वासा तथा महर्षि अंगिरा की तपस्थली में वृंदावन मार्ग, मथुरा पर गायत्री तपोभूमि स्थित है। वेदमूर्ति पंडित श्री राम आचार्य ने 30.05.1953 से 22.06.1953 तक उपवास (मात्र […]

Read More

 0