भगवान श्रीकृष्ण के नाम से पहले हमेशा भगवती श्रीराधा का नाम लिया जाता है

भगवान श्रीकृष्ण के नाम से पहले हमेशा भगवती श्रीराधा का नाम लिया जाता है। कहते हैं कि जो व्यक्ति श्रीराधा का नाम नहीं लेता है सिर्फ कृष्ण-कृष्ण रटता रहता है वह उसी प्रकार अपना समय नष्ट करता है जैसे कोई रेत पर बैठकर मछली पकड़ने का प्रयास करता है। श्रीमद् देवीभाग्वत् नामक ग्रंथ में उल्लेख मिलता है कि जो भक्त श्रीराधा का नाम लेता है भगवान श्री कृष्ण सिर्फ उसी की पुकार सुनते हैं। इसलिए कृष्ण को पुकारना है तो राधा को पहले बुलाओ।जहां श्री भगवती राधा होंगी वहां कृष्ण खुद ही चले आएंगे। पुराणों के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण स्वयं कहते हैं कि राधा उनकी आत्मा है। वह राधा में और राधा उनमें बसती है। श्रीकृष्ण को पसंद है कि लोग भले ही उनका नाम नहीं लें लेकिन श्रीराधा का नाम जपते रहें। इस नाम को सुनकर भगवान श्री कृष्ण अति प्रसन्न हो जाते हैं।

इसका उल्लेख श्री कृष्ण जी ने नारद से किया है।

इस संदर्भ में कथा है कि व्यास मुनि के पुत्र श्रीशुकदेव जी तोता बनकर श्रीराधा के महल में रहने लगे। शुकदेव जी हमेशा राधा-राधा रटा करते थे। एक दिन श्रीराधा ने शुकदेव जी से कहा कि अब से तुम सिर्फ कृष्ण-कृष्ण नाम जपा करो। शुकदेव जी ऐसा ही करने लगे। इन्हें देखकर दूसरे तोता भी कृष्ण-कृष्ण बोलने लगे। श्रीराधा की सखी सहेलियों पर भी कृष्ण नाम का असर होने लगा। पूरा नगर कृष्णमय हो गया, कोई राधा का नाम नहीं लेता था। एक दिन श्रीकृष्ण उदास भाव से श्रीराधा से मिलने जा रहे थे। श्रीराधा जी कृष्ण की प्रतीक्षा कर रही थी। तभी नारद जी बीच आ गए। श्रीकृष्ण के उदास चेहरे को देखकर नारद जी ने पूछा कि प्रभु आप उदास क्यों है। श्रीकृष्ण कहने लगे कि राधा ने सभी को कृष्ण नाम रटना सिखा दिया है। कोई राधा नहीं कहता, जबकि मुझे राधा नाम सुनकर प्रसन्नता होती है। श्रीकृष्ण के ऐसे वचन सुनकर श्रीराधा की आंखें भर आईं। महल लौटकर श्रीराधा ने शुकदेव जी से कहा कि अब से आप राधा- राधा ही जपा कीजिए। उस समय से ही श्रीराधा का नाम पहले आता है फिर श्रीकृष्ण का।

आइये मिलकर बोले “जय जय श्री राधे”
बोलिये वृन्दावन बिहारी लाल की जय ।
जय जय श्री राधे।
श्री राधा- कृष्ण की कृपा से आपका दिन मंगलमय हो ।
श्री कृष्ण शरणम ममः